BLOG DESIGNED BYअरुन शर्मा 'अनन्त'

शनिवार, 27 जुलाई 2013

हँसे सुमन



प्रदीप चौबे जी की रचना से प्रेरित हाइकु …. 

पसीना सींचे 
हुजूम के हुजूम 
फूल है उगे  | 

हँसे सुमन 
बहारों की साजिश 
लूटा चमन | 

लौटा सावन 
लौटेंगी बहारे भी 
संग साजन /उम्मीदें हरी | 

रुकी कलम 
तड्पी रोशनाई 
घुटता दम  | 

गुरुवार, 25 जुलाई 2013

MARS AND MAVEN


Going to mars ... mission by NASA ..में मेरे द्वारा भेजा गया हाइकु … 



MARS flabbergasted 
life lagoons hidden slowly
spy MAVEN desired


RED planet roving 
lonely in the milky way 
MAVEN companion


a new ray of hope
MARS MAVEN interaction
splendid sun smiling


hold my hand MAVEN
appealing buddy MARTIAN
we both will stay safe



बहुरुपिया जल



हिंदी हाइकू इ पत्रिका में प्रकाशित सेदोका 

१)
विस्मयकारी 
बहुरुपिया जल 
जीवन गीत कभी 
मौत की धुन 
दर्पण ,मोती कभी 
हीरक झिलमिल । 

२)
 गंगा समाया 
 बना पावन जल 
कीच मिला तो कीच 
संगत जैसी 
गति होगी वैसी ही 
नीर की यही सीख